Share this post

Share this postबदायूं सिविल लाइन स्थित जय मातृभूमि भवन आरएसएस कार्यालय पर क्रीड़ा भारती के कार्यकर्ताओं की एक आवश्यक बैठक

"/>

राष्ट्रभक्ति एवं संस्कार प्रद खेलों के माध्यम से आज की युवा पीढ़ी में देश भक्ति की भावना का संचार होगा खेलेगा इंडिया तो आगे बढ़ेगा इंडिया. रोहित स्वस्थ शरीर, स्वस्थ राष्ट्र का प्रतीक है – प्रमोद

Share this post

बदायूं सिविल लाइन स्थित जय मातृभूमि भवन आरएसएस कार्यालय पर क्रीड़ा भारती के कार्यकर्ताओं की एक आवश्यक बैठक आयोजित हुई.
जिसमें प्रांत संगठन मंत्री रोहित ने क्रीडाभारती के लक्ष्य एवं उद्देश्यों पर प्रकाश डाला. बैठक का शुभारंभ विभाग प्रचारक प्रमोद कुमार तथा क्रीड़ा भारती के प्रांत संगठन मंत्री रोहित कुमार ने भारत माता की मूर्ति पर माल्यार्पण कर किया. तत्पश्चात खेल खिलाड़ी खेल, हंसकर मिलकर , डटकर, बढ़कर खेल खिलाड़ी खेल गीत हुआ. प्रांत संगठन मंत्री (क्रीडा भारती, ब्रज प्रांत) ने कहा – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने शाखा के माध्यम से खेल खेल में, देश भक्ति, राष्ट्रभक्ति एवं संस्कार प्रद खेलों के माध्यम से आज की युवा पीढ़ी में देश भक्ति की भावना का संचार किया है. कुमार ने कहा – देश में 135 करोड़ लोग हैं.22 लाख लोग विभिन्न खेलों की स्पर्धाओं मैं मेडल प्राप्त करते हैं. जो कि बहुत कम है. उन्नति करनी है तो पूरे देश को खेल खिलाना होगा. क्रीड़ा भारती की स्थापना हॉकी के महान जादूगर मेजर ध्यानचंद के जन्म दिवस के अवसर पर 29 अगस्त 2009 में हुई. क्रीडा भारती के माध्यम सेे मान्यता प्राप्त खेलों के साथ-साथ अपने पारंपरिक खेलों को भी आगे बढ़ाना क्रीडा़ भारती का उद्देश्य है. कुमार ने कहा – खेलों के माध्यम से ही निर्भय महिला, सक्षम महिला अभियान के अंतर्गत मातृशक्ति को आत्मनिर्भर बनाना क्रीड़ा भारती का लक्ष्य है. विभाग प्रचारक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ बदायूं विभाग प्रमोद कुमार ने कहा – खेलों के माध्यम सेे सामूहिकता, देश भक्ति की भावना के साथ साथ देश व समाज से ऊंच-नीच, जात पात, वर्ग भेद की भावना को समाप्त करने में सफलता प्राप्त होगी, कुमार ने कहा – जीतने के लिए खेलें, सभी खेलें, अवश्य खेलें, खेल से हमारा शरीर स्वस्थ एवं मजबूत बनता है, स्वस्थ शरीर, स्वस्थ राष्ट्र का प्रतीक है.
इस मौके पर सत्य प्रकाश मौर्य कार्यवाह,आरएसएस डीडी शर्मा, रामदास, ज्योति सक्सेना, सीमा यादव, संजीव शर्मा, नंदराम शाक्य, जगजीवन राम, दुष्यंत कुमार, लालमन राजपूत, राजकुमार सिंह सेंगर आदि उपस्थित रहे।संवाददाता विकास आर्य