Share this post

Share this postहर वर्ष 256 से अधिक बिजली उपकेंद्र : ऊर्जा मंत्री – अगले वर्ष तक छोटे शहरों में 24

"/>

हर वर्ष 256 से अधिक बिजली उपकेंद्र : ऊर्जा मंत्री

Share this post
हर वर्ष 256 से अधिक बिजली उपकेंद्र : ऊर्जा मंत्री

– अगले वर्ष तक छोटे शहरों में 24 घंटे कटौतीमुक्त बिजली देने की तैयारी

– हर वर्ष 256 से अधिक बिजली उपकेंद्र

लखनऊ अगले वर्ष मार्च-अप्रैल से छोटे शहरों में 24 घंटे बिना कटौती बिजली दी जाएगी। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने यह बातें कहीं।ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने इस संबंध में बिजली अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि तीन से चार महीनों के अंदर उन सभी शहरों जहां 24 घंटे बिजली बिना कटौती बिजली सप्लाई करनी है, वहां सभी आधारभूत ढांचे तैयार कर लिए जाएं। बिजली आपूर्ति के अलावा इंफ्रास्ट्रक्चर भी बेहतर होना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में हर वर्ष 256 बिजली उपकेंद्र बन रहे हैं। दो वर्षों में 542 से अधिक उपकेंद्र बनाए गए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को कहा कि ट्रांसफार्मर, तार, खंभे जैसे जरूरी कामों को समय से और गुणवत्तापूर्ण तरीके से पूरा करा लिया। मंत्री ने कहा कि 2022 तक प्रदेश के सभी शहरों-गांवों को 24 घंटे बिजली मुहैया कराने का लक्ष्य है। इसे भी ध्यान में रखकर निर्माण और अन्य कार्यों की योजनाएं बनाकर समय से पूरा किया जाए। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि पिछली सरकारों ने बिजली सुधार की ओर बहुत अधिक ध्यान नहीं दिया। इसलिए छोटे शहरों, कस्बों और गांवों में लोगों को पूरी बिजली नहीं मिल पा रही थी। बिजली की बढ़ती मांग को अन्य राज्यों से पूरा करने के लिए पारेषण ग्रिड की कुल आयात क्षमता में बढ़ोतरी जरूरी होती है। वित्तीय वर्ष 2016-17 तक यह मात्र 7800 मेगावाट रही। अब इसमें लगभग 71 फीसदी की रिकॉर्ड वृद्धि हुई। अब यह क्षमता 13,400 मेगावाट तक पहुंच गई है। गांवों-कस्बों में भी पूरी सप्लाई के लिए यह बेहद जरूरी था।