Share this post

Share this postबदायूं। सोमवार रात को हुए हादसे में जब एएम मरीज की हालत नाजुक थी तो डाक्टर ने उसे

"/>

हादसे के बाद एम्बुलेंस चालक शराब के नशे में मुख्यालय को बनाते रहे पागल हादसे में घायल को बरेली किया गया था रेफर, नहीं आई एम्बुलेंस तो प्राइवेट से भेजा मुख्यमंत्री 1०76 पर की गई शिकायत लेकिन नहीं हो सकी कार्रवाई अगर ऐसा ही रहा तो प्रदेश सरकार को फेल कर देगी एम्बुलेंस सेवा

Share this post

बदायूं। सोमवार रात को हुए हादसे में जब एएम मरीज की हालत नाजुक थी तो डाक्टर ने उसे बरेली ले जाने की सलाह दे दी। परिजनों ने एम्बुलेंस 1०8 पर कॉल की जिस पर मुख्यालय से आई कॉल में एम्बुलेंस चालक शराब के नशे में अधिकारियों को पागल बनाते रहे जबकि मुख्यालय से दो एम्बुलेंसों को फोन किया गया। लेकिन कोई भी एम्बुलेंस नहीं पहुंची जिस पर पीडि़त को प्राइवेट एम्बुलेंस से मरीज को ले जाना पडा। इसकी शिकायत 1०76 पर भी की गई लेकिन दूसरे दिन भी लापरवाह लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

आपको बता दें कि सैदपुर से एक परिवार मेला ककोडा जाने के लिए अपने टैक्टर से चले थे कि बदायूं वाईपास पर एक निजी बस ने टक्कर मार दी जिसमें दो महिलाओं की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हे गये थे। जिला अस्पताल से घायल महिला को बरेली रेफर किया गया था। जिसको लेकर पीडि़त ने एम्बुलेंस 1०8 को फोन किया लेकिन मुख्यालय के कहने के बाद भी शराब के नशे में चालक बहाने बनाते रहे। जब एक घण्टे तक एम्बुलेंस नहीं आई तो इसकी शिकायत मुख्यमंत्री 1०76 पर की गई। जानकारी करने के बाद पता लगा कि मामले की जांच चल रही है। जांच के बाद लापरवाह चालकों पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है।