काकोरी में हुए गोली काण्ड को लेकर असमंजस में लखनऊ की कमिश्नरेट पुलिस

Share this post
काकोरी में हुए गोली काण्ड को लेकर असमंजस में लखनऊ की कमिश्नरेट पुलिस

साले-बहनोई की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश

मोबाइल की लोकेशन के अनुसार नामजदगी गलत

कई संदिग्ध पुलिस की हिरासत में इलाके में रूट पर लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही पुलिस

पीड़ित ने रात में पुलिस को क्यों नहीं बताई मजदूर को गोली लगने की बात

पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ की कोतवाली काकोरी क्षेत्र में जमीनी विवाद के दौरान खेत में सो रहे दो युवकों को संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगने से मजदूर की मौत और किसान के घायल होने के मामले में पुलिस अभी तक किसी अंतिम नतीजे पर नहीं पहुंची है।

काकोरी के जलियांमऊ गांव में गुरुवार/शुक्रवार को हुए गोली खण्ड में सुशील उर्फ लाला लोधी अपने खेत में लेबर श्रीराम लोधी के साथ धान की रखवाली कर रहा था। तभी लाला के भाई के अनुसार उन दोनों को जमीनी विवाद के चलते बीती रात 1:30 बजे गांव के पवन उर्फ छोटू लोधी और उसके जीजा संजय ने गोली मार दी। जिसमें लेबर श्रीराम लोधी की मौत हो गई और उसका भाई लाला गोली लगने से घायल हो गया था।

सूत्रों की माने तो नामजद अभियुक्तों की मौजूदगी मोबाइल फोन की लोकेशन के अनुसार घटना के समय लखनऊ शहर में मिल रही है। सूत्र बतातें हैं कि पुलिस ने नामजद आरोपियों के मोबाइल फोन की लोकेशन और काल डिटेल निकलवाई जिसमें आरोपियों की लोकेशन घटना के समय काकोरी क्षेत्र में नहीं पाई गई है।

कई संदिग्ध पुलिस की हिरासत में इस घटना के बाद काकोरी पुलिस ने नामजद आरोपियों की तलाश में कई जगह लगातार दबिश दी। वहीं संदेह के घेरे में आए कई लोगों को पुलिस हीरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। बताया जा रहा कि पुलिस को घटना से जुड़े कई अहम सुराग हाँथ लगे हैं। अब काकोरी पुलिस नामजद आरोपियों के साथ ही संदेह के घेरे में आए लोगों की सरगर्मी से तलाश कर रही है।

जलियामऊ हत्या कांड में पुलिस के हाँथ अहम सुराग काकोरी के जलियामऊ गांव में हुए गोली कांड में कमिश्नरेट पुलिस को कुछ अहम सुराग हाँथ लगे हैं। जिन लोगों ने घटनास्थल पर पीड़ित के साथ घटना से पहले जमकर शराब पी और उसके बाद गांव से गायब थे, ऐसे लोगों को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

मृतक मजदूर का मानसिक संतुलन ठीक नहीं
जलियामऊ गांव में हुए गोली कांड में मृतक श्रीराम का मानसिक संतुलन पिछले कई सालों से ग्रामीणों के अनुसार ठीक नहीं था। गांव की निवासियों के अनुसार जो उसे खाना पानी दे-दे उसकी खितमत में वह लग जाता था। उसकी मौत की वजह किसी ग्रामीण की समझ से बाहर है। ऐसा जलियामऊ के ग्रामीणों का ही कहना है।

इस संबंध में काकोरी एसीपी आशुतोष कुमार का कहना है कि जमीनी विवाद का मामला सामने आया है। दो लोग पवन व उसका जीजा नामजद हैं। प्रथम दृष्टया अबतक की जांच में घटना संदिग्ध लग रही है। घटना की गहनता से पडताड़ की जा रही है। किसी निर्दोष को जेल भेजना गलत होगा है। जांच में जो भी सही तथ्य सामने आएगा, उसी के अनुसार अग्रिम कार्यवाही की जाएगी। बहुत जल्द घटना का सही खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।